Mirror Sylvia Plath Summary in Hindi

The Mirror Summary in Hindi

Welcome to Mirror Sylvia Plath Summary in Hindi. In the last post, I wrote about The Frog and Nightingale Summary in Hindi. In this post, I will write a short summary of the chapter The Mirror by Sylvia Plath in Hindi. The short summary can be useful in making you understand the whole chpater.

Mirror Sylvia Plath Summary in Hindi

इस कविता में दर्पण स्वयं का वर्णन करता है। यह चांदी के रंग का और सटीक होता है। यह पूर्व-कल्पित धारणाओं या पूर्व-विचारों से ग्रस्त नहीं है। यह प्यार, नफरत या अन्य भावनाओं से प्रभावित नहीं है। दर्पण जो कुछ भी देखता है, विश्वासपूर्वक और उद्देश्यपूर्ण रूप से उसे प्रतिबिंबित करता है।


दर्पण अधिकांश समय विपरीत दीवार पर ध्यान केंद्रित करता है। दर्पण का दूसरा रूप एक झील है। एक महिला अपनी युवावस्था और सुंदरता की खोज में इस पर झुकती है। महिला रोजाना अपने चेहरे को आईने में देखती है और दिन ब दिन वह बूढी होते जाती है। उसे पता चलता है कि उसने अपनी सुंदरता और जवानी खो दी है।


मोमबत्तियों और चंद्रमा की ओर मुड़ती है जो सिर्फ झूठे होते हैं और कभी भी सटीक और सच्ची छवियां पेश नहीं करते हैं। आईना कभी धोखा नहीं देता। जब वास्तविकता उसे काटती है तो वो बेचैन महसूस करती हैं। वह यह जानती है की अब वह और जवान और खूबसूरत नहीं है। वह भयानक महसूस करती है ठीक वैसे ही जब मछली पानी से बाहर होती है।

Shashi Kumar

Author: Shashi Kumar

Hello, I am behind this website. A small effort to help student get information faster. I love web development and playing piano. Get in touch with me on Instagram.

One thought on “Mirror Sylvia Plath Summary in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *